Disabled Copy Paste

आबे ज़मज़म कुँवें की कहानी और इस पानी की फ़ज़ीलत

Abe Zam Zam Ka Pani

खानए काबा से महज़ 20 मीटर दुरी पर ज़म ज़म का कुआँ स्थित हैं। जो लगभग 5000 साल से भी ज़्यादा पुराना हैं। इसका पानी आज तक न कभी सूखा हैं न ही कभी ख़राब हुआ हैं। सुभानअल्लाह ! हदीस में हैं की एक बार हज़रत इब्राहीम अलैहिस्सलाम अपनी बीवी हज़रत बीबी हाज़रा और बेटे हज़रत इस्माइल को एक बीहड़ रेगिस्तान में छोड़ कर चले गए थे। उसी वक़्त हज़रत इब्राहिम के बेटे हज़रत इस्माइल जो की उस वक़्त एक दूध पीते बच्चे थे को बहुत प्यास लगी, तभी उनकी माँ हज़रत बीबी हाज़रा पानी की तलाश में इधर उधर दौड़ने लगी। जबकि ऐसे बीहड़ रेगिस्तान में पानी का कही नामोनिशान नहीं था। तभी अचानक आपके बेटे हज़रत इस्माइल के पैरों की रगड़ से एक पानी का फव्वारा जारी हो गया। हज़रत बीबी हाजरा ने उसी चमत्कारिक फव्वारे से अपने बेटे की प्यास बुझाई और आपने भी वह पानी पिया। यही फव्वारा जो आज आबे ज़म ज़म के नाम से जाना जाता हैं।

रसूले कायनात सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम ने फ़रमाया ज़मज़म का पानी मुबारक हैं। यह पानी भूके के लिए खाना और बीमार के लिए दवा हैं। इस पानी में बहुत बड़ी शिफा हैं। यही वजह हैं की अल्लाह के प्यारे रसूल सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम इसे हमेशा साथ ले जाते। इसलिए हज और उमराह के मुबारक सफर पर जाने वालों के लिए वहां से ज़म ज़म शरीफ का पानी लाना सुन्नत हैं।
हमारे प्यारे रसूल को यह पानी बहुत पसंद था। आपने मक्का शरीफ के मशहूर खतीब हज़रत सहल बिन अम्र को खत लिखकर आबे ज़म ज़म तलब फ़रमाया। चुनांचे आपने दो मश्क़े आबे ज़म ज़म से भरकर ऊंट पर लदवा कर मदीना शरीफ भिजवाई।

आज के इस दौर में रासायनिक परीक्षणों से यह मालूम हुआ हैं की

1.ज़म ज़म के पानी में ऐसी चीज़ मिली हुई हैं जिससे बदन की जलन व गर्मी दूर होती हैं।
2.ज़म ज़म का पानी उलटी, मतली और सरदर्द में बहुत फायदेमंद हैं।
3.ज़म ज़म का पानी बदन को नुक्सान पहुँचाने वाले जरासीम को ख़त्म कर देता हैं।
4.इस पानी के अंदर जो सोडियम हैं उससे पेट साफ़ होता हैं और कब्ज़ की शिकायत दूर होती हैं।
5.यह पानी गठिया की बीमारी में बहुत फ़ायदा देता हैं।
6.यह पानी शुगर, खुनी पेचिश, पथरी, खुनी मस्सो के मरीज़ो के लिए बहुत मुफीद हैं।
7.इस पानी के अंदर मौजूद सोडियम क्लोराइड खून को साफ़ करता हैं पेट के दर्द और कॉलरा (हैजा) में यह पानी पीना बेहद मुफीद हैं।
8.कोयले के धुंए की ज़हरीली गैस से होने वाली तकलीफ इस पानी से दूर हो जाती हैं यह पानी बदन की कमज़ोरी को भी दूर करता हैं।
9.इस पानी में कैल्शियम कार्बोनेट भी मौजूद हैं जो खाना हज़म करने और पाचन शक्ति को मज़बूत करने में मदद करता हैं।
11.यह पानी गर्मी में लू का असर भी खत्म कर देता हैं।
12.इसमें मौजूद पौटेशियम नाइट्रेट गुर्दे के लिए बेहद मुफीद हैं यह पानी पेशाब को साफ़ करता हैं।

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

आबे ज़मज़म कुँवें की कहानी और इस पानी की फ़ज़ीलत

खानए काबा से महज़ 20 मीटर दुरी पर ज़म ज़म का कुआँ स्थित हैं। जो लगभग 5000 साल से भी ज़्यादा पुराना हैं। इसका पानी आज तक न कभी सूखा हैं न ही ...

Popular Posts